प्रभावी रिज्यूमे (बायो डाटा) कैसे बनाएं

रिज्यूमे अपने आप को दूसरो के सामने पेश करने का सबसे पहला, आसान और ज़रूरी साधन है। इसके द्वारा आप अपने भावी नियोक्ता को अपने बारे में ज़रूरी जानकारी देते हैं जैसे कि आपकी –

  • योग्यता
  • अनुभव
  • उपलब्धियां
  • क्षमताएं, और
  • गुण

एक नियोक्ता आपका रिज्यूमे देखने के बाद ही आपकी योग्यता का अंदाजा लगाता है। इसलिए आपको अपना रिज्यूमे प्रभावशाली और ध्यानाकर्षक बनाना चाहिए।

ज्यादा इंटरव्यू प्रस्तावों को आकर्षित करने के लिए रिज्यूमे लिखने से पहले इन प्रमुख सुझावों का पालन करें :

1. आपका पता – रिज्यूमे में सबसे पहले अपना पता सम्मिलित करें जिसमे आपका नाम, पता, फोन नंबर और ई-मेल विस्तार रूप से लिखा हो। इस भाग को पेज के बायीं ओर रखें तथा बाकी हिस्सों से अलग करने के लिए नीचे एक बोल्ड लाइन लगा दें।

2. संक्षिप्त विवरण- इस भाग में अपने सभी अनुभव, उपलब्धियों, प्रमाणपत्र और सकारात्मक गुण आदि डालें। इसको लिखने के लिए आप आकर्षक और भारी शब्दों का चयन कर सकते हैं। जैसे कि अगर आप अभी स्नातक बने है तो आप अपने छोटे लेकिन प्रभावशाली परियोजनाओं, अपनी उपलब्धियों और क्षमताओं को इसमें डाल सकते हैं।

3. शिक्षा विस्तार- कई संगठन शैक्षिक पृष्ठभूमि को भी काफी प्राथमिकता देते हैं । इसलिए यहां अपने अकादमिक रिकॉर्ड के बारे में बताना भी एक महत्त्वपूर्ण पहलू है। अपने उच्चतम डिग्री को शीर्ष और फिर निचले स्तर पर उसके नीचे की योग्यताओ को क्रम के अनुसार लिखें। यहां डिग्री या प्रमाण पत्र के साथ-साथ अपनी स्थिति, रैंक, प्रतिशत या सीपीआई के बारे में जानकारी देना भी चयनित होने के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है।

4. तकनीकी कौशल इस खंड को उस प्रमुख कौशल को बताने के साथ शुरू करें जिसमें आप अपने आप को सबसे ज्यादा कुशल मानते हैं। तो पहले सभी तकनीकी ज्ञान की सूची बना लें और फिर उन्हें कुशलता के अनुसार क्रम में लगाकर इस खंड में उल्लेखित करें।

5. परियोजनाओं (प्रोजेक्ट डिटेल्स) का विस्तार- नौकरी देने वाला हमेशा ये जानना चाहता है की आपने अतीत में क्या काम किया है। इस लिए इस भाग में आप अपनी पढाई के दौरान किये उपकरणों और प्रौद्योगिकियों के विभिन्न प्रकार के उपयोगों के अनुभवों के बारे में विस्तार से लिखें।

अपने संगठन, परियोजना का वर्ष, आपकी भूमिका, जिम्मेदारियों, मूल्य, उपलब्धियों आदि को स्पष्ट रूप से लिखें। इसमें भी आप सबसे हाल ही की परियोजना के साथ शुरू करके सबसे पुरानी परियोजनाओं की सूची बनाएं।

6. आपके मज़बूत पक्ष (स्ट्रेंथ) – सभी परियोजनाओं का एक पूरा विवरण देने के बाद, अब आप अपने प्रमुख शक्तियों के बारे में बता सकते हैं। कुछ आम तौर पर लिखी जाने वाली स्ट्रेंथ हैं –

  • अच्छा मौखिक, लिखित और प्रस्तुति कौशल
  • कार्रवाई उन्मुख और परिणाम केंद्रित
  • त्वरित शिक्षार्थी
  • तनाव के प्रति उच्च सहिष्णुता
  • एक संगठित तरीके से एक टीम के रूप में काम करने की क्षमता
  • समय प्रबंधन कौशल

आप इस तरह की स्ट्रेंथ अपने बायो डाटा में शामिल कर सकते हैं लेकिन इन्हें आपको अपनी क्षमताओं के अनुसार ही चुनना होगा।

7. पाठयक्रम से अतिरिक्त गतिविधियां – अगर आपका और आपके इंटरव्यू लेने वाले की इत्तिफ़ाक़ से एक ही दिलचस्पी और शौक हो तो ये अप्रत्याशित रूप से आपको काफी फायदा दे सकता है। फिर भी यह खंड वैकल्पिक है क्योंकि हमेशा जरूरी नहीं है कि आप कुछ अतिरिक्त पाठयक्रम गतिविधियों में शामिल हुए हों। इसमें आप अपनी खेल, गायन, चित्रकला आदि गतिविधियां गिनवा सकते हैं।

8. व्यक्तिगत जानकारी – यह आपके रिज्यूमे का अंतिम लेकिन अनिवार्य खंड है जो की आप के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करवाता है। इसमें आप अपने बारे में निम्नलिखित जानकारी का विवरण दे सकते हैं:

  • जन्म तिथि
  • लिंग और वैवाहिक स्थिति
  • राष्ट्रीयता
  • भाषाएं
  • पासपोर्ट संख्या आदि।

9. निष्कर्ष – अब जब आपके हाथ में एक स्पष्ट एवं संतोषप्रद रिज्यूमे है तो यह रही अंत में कुछ टिप्स, जो और फायदा दे सकती हैं:

  • रिज्यूमे फ़ाइल का नाम, लघु सरल और सूचनात्मक रखें।
  • आप रिज्यूमे के शीर्ष दायें कोने में एक छोटा सा पासपोर्ट आकार का फोटो रख सकते हैं।
  • रिज्यूमे को जितना संभव हो उतना सरल रखें।
  • आपका रिज्यूमे टाइपिंग त्रुटियों से मुक्त और सादे सफेद कागज पर हो ।
  • रिज्यूमे में बहुत सारे फोन नंबर, ईमेल आईडी या पतों को शामिल न करें।

याद रखिये आपका बायोडाटा आपका शुरूआती प्रभाव बनाने में मदद करता है । इसी लिए इसे आप जितना हो सके उतने शांति और सब्र के साथ बनाए। हो सकता है कि यह आपका भविष्य निश्चित करें!

Comments